Skip to main content

अनकही मोहब्बत..........

खड़े-खड़े साहिल पर हमने आपके इंतजार मे सुबह से शाम कर दी, अपना दिल ❤️और दुनिया आप के नाम कर दी। 

ये भी न सोचा था मेंने कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी तेरे बिना ऐ सनम😒 तूने मेरी मुस्कराहट😊 मांगी थी,
हमने बिना सोचे-समझे अपनी हर ख़ुशी😁 आपके नाम कर दी। 
 
ये भी ना सोचा क्या बितेगी मुझपर आपने तो हमारी चाहत किसी गैर के नाम कर दी😩
खुश है तू उसकी बाहों मे जाकर तो जा हमने भी अपनी जिंदगानी तन्हा रातों के नाम करदी😇😇😇😇..........



 तुम्हारे कहने से बदले है सपने बदले हैं रास्ते बदली है हमने अपनी मुस्कराहट 😊का अंदाज, पर जब बदले हालात तो धीमी आवाज से बुला लेना भुला देना गिले सिक्वे और प्यार ❤️से हमे गले लगा लेना"😭😭
 
अगर हो जाओ नाराज तो कभी मान जाना तो कभी मुझे मना लेना  के कल का क्या पता हम हो ना हो जब मौका मिले तो हमारे साथ चंद खुशी के पल बिता लेना माना हुई थी कुछ दूरी हुए थे  कुछ गिले सीक्वे उन बीते लम्हों को भुलाकर मुझे अपना लेना, 
 
परेशानीयाँ तो लाख आएंगी बस मेरा हाथ थाम कर हसीन सपने सजा लेना अगर आ जाए मुसीबतें तो आँखोंको बंद करके हस लेना और हसा लेना.....
 किशन निषाद 
Dear friends i hope you liked the thaughts if you need more just scroll down you can read more and don't forget to comment your idea and suggestions....

Comments

Post a Comment

Thankyou for the page view I hope you like my thaughts😊😊😊😊

Popular posts from this blog

बचपन की यादें...... 😔😔😔😔

  एक पल था जब हम स्कूल से दौड़े🏃 दौड़े घर आते थे,  स्कूल मे अध्यापक की मार खाने से बहुत घबराते थे... उस 2 रुपये की चटपट😉 चीज़ लेकर सारे दोस्त मौज उड़ाते थे बचपन मे देखा करते थे बड़ी गाड़ी🚗 और बड़े घर🏘️ के सपने पर आज जब बड़े हुए तो वो बचपन के दोस्त और 2 रुपये की चटपट बहुत याद आते हैं😒😒.....   आज हमारे पास दोस्त👬 तो बहुत है मगर सायद दोस्तों के पास वक़्त🕰️ नहीं....  पैसे💵 तो बहुत है पर वो चटपट🍬 का मजा नहीं....  याद आता है🙄 वो बचपन की छुपा चुप्पी वो पकडा पकडी 🏃‍♀️🏃‍♂️🏃......  वो बरसात मे काग़ज़ 🚤की नाव और गर्मी का काला खटटा🍦 पर हम आज बड़े हो गए मगर आज भी याद है वो बचपन का थैले वाला बसता💼..... Kishan nishad....   Dear friends i hope you liked the thaughts if you need more just scroll down you can read more and don't forget to comment your idea and suggestions.... Also comment the show name   

यादे सायरी.....

    रूठे हो हमसे ये बात हमे पता है हम जानते है के हमारी जान किस बात पे हमसे खफा है,  के आजाओ हमारी बाहों मे ईन ज़ख्मों को मिलके सिलते है चलो छोड़ो ना गुस्सा उन बारिश वाली भीगी राहों मे दोबारा मिलते है,  के पहले के जैसे तुझे मे प्यारा हो जाऊँ मे आशिक हू तेरा के मान जाओ के मे फिर से तुम्हारा हो जाऊँ,  आओ फिर उसी चौराहे किसी बहाने से के मे गुलाब और तुम खुशबु बनके खिलते है,  के चलो छोड़ो ना गुस्सा उन राहों मे दोबारा मिलते है।   चांद की चांदनी मे छत के नीचे बैठ के दो बोल हम गुनगुनाए  के ईन हाथों मे हो तेरा हाथ के तेरा मेरा प्यार देखकर चांद भी शर्मा जाए  तेरी रूह पर बन बारिश का पानी के ईन निगाहों से तुझपे बरस जाऊँ के मिल जाए तेरी रूह को सुकून एसा कुछ कर जाऊँ हो अगर आखिरी सांसे मेरी तो बैठ जाना मेरे पास के जब जाऊँ इस दुनिया से तेरा चेहरा मेरे सामने आ जाए  के वो दिन गए और वो रात गई के तुम्हारी वो प्यार वाली बात गई ना जाने क्यु तुम जबसे हमसे रूठ कर गई हमारे होंठो से वो मुस्कुराहट गई  कैसे भूलूं उन बातों को उन प्यार वालि रातों को वो तेरा रूठना मेरा मानना उन भीगी भीगी रातों को आँखों से आंसूं बनके